Pukhraj Ring + 5 Mukhi rudraksha

Availability: In stock


Items
One  Pukhraj Ring, One 5 Mukhi Rudraksha
Origin 
Pukhraj-  Bangkok 
Rudraksha - Nepal
Certification & Metal

Yes / Panchdhatu/ Silver

SizeFree Size (Adjustable)

EnergizedYes 
Shipping
Free in India, 3-4 days


Rs. 3900
  
  

Featured Description

Featured Description

पुखराज 

वेदिक ज्‍योतिष में सबसे ज्‍यादा पहनाया जाने वाला रत्‍न है पुखराजइसी कारण से रत्‍न राज भी कहते हैं। कुंडली में अगर गुरू नीच के हों या फिर कमजोर हो तो इसे पहनने की सलाह दी जाती है।

कौन कर सकता है धारण 

  • धनु और मीन राशि के जातक इस अंगूठी को धारण कर सकते हैं। क्‍योंकि इन राशि का स्‍वामी स्‍वयं बृहस्‍पति होते हैं इसलिए पुखराज पहनने से इन राशि के जातकों का भाग्‍योदय होता है।
  • कोई भी व्‍यक्ति जिसकी कुंडली में बृहस्‍पति की महादशा या अंतरदशा चल रही हो उसे भी पुखराज अवश्‍य धारण करना चाहिए।
  • बृहस्‍पति से संबंधित क्षेत्र से जुड़े क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को भी पुखराज रत्‍न की अंगूठी को अवश्‍य धारण करना चाहिए। 

पुखराज अंगूठी के लाभ 

  1. अगर आप व्‍यापारी है तो पुखराज को अवश्‍य धारण करना चाहिएयह सफलतासम्‍मान और धन की प्राप्‍ति के मार्ग खोलता है।
  2. ऐसे जोडे जो परिवार वृद्ध‍ि के बारे में सोच रहे हो उन्‍हें भी इस अंगूठी को अवश्‍य धारण करना चाहिए।
  3. परिवार में रूके हुए मंगल कार्यों को तेजी से आगे बढ़ाता है और बली गुरू मंगल कार्यों के कई अवसर प्रदान करता है। 

कैसे करें धारण 

सबसे पहले पंचधातु में बनी इस अभिमंत्रित अंगूठी को प्राप्‍त करें। इसके बाद किसी भी गुरूवार के दिन इसे अच्‍छी भावना और विश्‍वास के साथ तर्जनी अंगूली (पहली अंगूली) में धारण कर लें। 



Featured Description

पांच मुखी रुद्राक्ष

पांच मुखी रुद्राक्ष को कालाग्‍नी रुद्राक्ष भी कहते हैं। यह आध्‍यात्‍मिक ज्ञान प्राप्‍ति के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है। यह धारण करने से स्‍वाभाव में सौम्‍यता आती है। जिम्‍मेदारी का एहसास होता है और मान सम्‍मान में वृद्धि होती है। यह भी कहा जाता है कि इस रुद्राक्ष को धारण करने वाला पांच तरह के पापों से मुक्ति प्राप्‍त करता है। 

मंत्र: ऊं ह्रीं नम: 

देवता: कालाग्‍नी रुद्र

ग्रह: बृहस्‍पति

राशि: धनु और मीन 

उत्‍पत्ति‍: नेपाल

 

पांच मुखी रुद्राक्ष के लाभ: 

  • ऐसे लोग जो ध्‍यान लगाते हैं और किसी भी तरह के अध्‍यात्‍मिक ज्ञान की तलाश में होते हैं उन्‍हें यह अभिमंत्रित 5 मुखी रुद्राक्ष अवश्‍य धारण करना चाहिए। 
  • उच्‍च रक्‍त चाप, एसिडिटी और दिल से संबंधित बीमारियों में इसको धारण करने से काफी सकारात्‍मक परिवर्तन देखने को मिलते हैं। 
  • जीवन को तनाव मुक्‍त रखने और शांति बनाए रखने के लिए भी अभिमंत्रित पांच मुखी रुद्राक्ष को धारण किया जाता है। 
  • बालिका जिसे अपने व‍िवाह का इंतजार हो और काफी समय से कोई अच्‍छा वर न मिल पा रहा हो तो उसे भी पांच मुखी रुद्राक्ष अवश्‍य पहनना चाहिए। 
  • काले जादू से बचने के लिए भी इस अभ‍िमंत्रित पांच मुखी रुद्राक्ष को धारण किया जा सकता है। 
  • भगवान शिव, भगवान व‍िष्‍णु, भगवान गणेश, सूर्य देव तथा मां दुर्गा के आशीर्वाद  का प्रतीय यह सभी ज्‍योतिषीय उपायों में सबसे श्रेष्‍ठ माना गया है। 

कैसे करें धारण 

सबसे पहले तो इसे प्राप्‍त करें। इसके बाद किसी भी गुरूवार के दिल हल्‍दी से इस रुद्राक्ष का तिलक करें इसे चांदी में मढ़वाकर पहन लें। 

 

Pukhraj Ring + 5 Mukhi rudraksha

Oops there is no vedio related to this product

SIMILAR PRODUCTS